Kisan News: कपास की फसल को बचाने के लिए सरकार ने बनाया ये प्लान, जानें जल्दी किसान

... -


January 22, 2024 कपास की खेती पर गुलाबी बॉलवर्म कीट का हमला देखा गया। गुलाबी बॉलवर्म के कारण कपास का उत्पादन कम हो गया। सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है कि आगामी खरीफ सीजन 2024 में कपास की फसल पर पिंक बॉलवर्म का हमला न हो।

राजस्थान सरकार ने जिनिंग मिल मालिकों और प्रतिनिधियों के साथ बैठक की और सरकार ने कृषि विभाग, कृषि विपणन विभाग और जिनिंग मिल मालिकों को आपसी समन्वय से पिंक बॉलवॉर्म के प्रभावी प्रबंधन के लिए आवश्यक प्रयास करने के निर्देश दिए. साथ ही किसानों को तकनीकी जानकारी भी उपलब्ध कराएं, ताकि आगामी खरीफ सीजन 2024 में पिंक बॉलवर्म पर नियंत्रण कर कपास का उत्पादन बढ़ाया जा सके।

फेरोमोन जाल लगाने की सलाह
कपास मिलों के आसपास फेरोमोन ट्रैप लगाए जाने चाहिए ताकि गुलाबी बॉलवर्म का प्रारंभिक चरण में पता लगाया जा सके और समय पर नियंत्रित किया जा सके। जिनिंग मिलों में, रेशे और बीज (कपास के बीज) निकालने के लिए कच्चे कपास को कीड़ों के संक्रमण से प्रभावित खेतों से लाया जाता है।

गुलाबी कैटरपिलर जीनिंग मिलों से निकलने वाले कपास में प्यूपा अवस्था में और ओटने के बाद बचे हुए पदार्थ में मौजूद होता है। अनुकूल परिस्थितियाँ मिलते ही ये वयस्क कीट बन जाते हैं और कपास की बुआई के समय जिनिंग मिल के आसपास कपास की फसल को संक्रमित कर देते हैं। अत: जहां भी सूती मिल स्थापित हो, वहां रुई के दानों का भंडारण खुले में न करें।

रुई के गोले को पॉलिथीन शीट से ढककर रखें। 48 घंटे तक बंद कमरे में या पॉलिथीन शीट से ढककर एल्युमिनियम फास्फाइड से धुंआ करने का सुझाव दिया गया। जिन किसान भाइयों ने अपने खेतों में बीटी नरमा की लकड़ी का भंडारण किया है।
उन्होंने फसल बोने से पहले उक्त लकड़ियों को खेतों से हटाने का आग्रह किया और सलाह दी कि बीटी कॉटन की लकड़ियों को छाया या खेत में इकट्ठा करने के बजाय उन्हें काटकर जमीन में मिला दें।


Share to ....: 237    


Most viewed


Short Message Board

Weather Forecast India

Visiter's Status

Visiter No. 31369073

Saying...........
LAW: The person who snores loudest will fall asleep first.





Cotton Group